लोकसभा 2019: कांग्रेस के दोनो महासचिव को बाटी गयी जिम्मेदारिया।

आई एन न्यूज नई दिल्ली डेस्क: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दो महासचिव प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के काम का बंटवारा कर दिया।
प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया को अलग-अलग सीटों का जिम्मा दिया गया है। प्रियंका गांधी 41 लोकसभा क्षेत्रों का काम देखेंगी तो सिंधिया 39 सीटों पर काम करेंगे। राहुल गांधी ने पूर्वी और पश्चिमी सीटों को अलग-अलग जोन में बांट कर इन दोनों महासचिवों को जिम्मेदारी सौंपी है। प्रियंका गांधी मंगलवार को कार्यकर्ताओं से मिलीं।
सूत्रों के मुताबिक उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि ‘मुझे बचपन से संगठन में काम करने का शौक था. रायबरेली अमेठी में बचपन से कर रही हूं। अभी 2019 के लिए वक्त कम है, फिर भी ताकत लगाएंगे लेकिन मैं विधानसभा चुनाव तक संगठन दुरुस्त कर दूंगी। सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, नगीना, मुरादाबाद, रामपुर, संभल, अमरोहा, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, नोएडा, बुलंदशहर, अलीगढ़, हाथरस, मथुरा, आगरा, फतेहपुर सीकरी, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर, खीरी, धौरहरा, सीतापुर, हरदोई, मिश्रिख, फर्रूखाबाद, कन्नौज, कानपुर, अकबरपुर, बहराइच, श्रावस्ती लोकसभा सीटें सिंधिया के खाते में गई हैं। जबकि प्रियंका गांधी के खाते में उन्नाव, मोहनलालगंज, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, जालौन, बांदा, फतेहपुर, कौशाम्बी, फूलपुर, इलाहाबाद, बाराबंकी, फैजाबाद, अम्बेडकरनगर, कैसरगंज, गोंडा, डुमरियागंज, बस्ती, संतकबीरनगर, महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, लालगंज, आजमगढ़, घोसी, सलेमपुर, बलिया, जौनपुर, मछलीशहर, गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, भदोही, मिर्जापुर, रॉबर्ट्सगंज, झांसी, हमीरपुर सीटें गई हैं।
गौरतलब है कि कांग्रेस ने यूपी में चुनाव के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने सोमवार को लखनऊ में बड़ा रोड शो किया. पार्टी की पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी महासचिव बनाए जाने के बाद यह उनका लखनऊ का पहला दौरा था। रोड शो में अन्य नेताओं के अलावा प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर, पश्चिमी उत्तरप्रदेश के प्रभारी महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल थे। लोगों ने प्रियंका गांधी का जमकर उत्साह बढ़ाया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारे लगाए।
अभी कयास ये लगाए जा रहे हैं कि कांग्रेस यूपी में सपा-बसपा गठबंधन के साथ जा सकती है लेकिन राहुल गांधी ने 80 सीटों को पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्र में बांटकर और प्रियंका गांधी व सिंधिया को अलग-अलग जिम्मेदारी सौंप कर साफ दिया कि पार्टी अकेले मैदान में उतर सकती है। इससे पहले सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष ने स्पष्ट कर दिया कि उनकी पार्टी यूपी में अपने बूते आगामी लोकसभा चुनाव में उतरेगी। इस तरह राहुल गांधी ने प्रदेश में बसपा के लिए अपने दरवाजे लगभग बंद कर दिए, मगर उन्होंने कहा कि वह दोनों दलों के नेता मायावती और अखिलेश यादव का आदर करते हैं।

More from indonepalnews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  • अमेठी में होगा रोचक चुनाव, कांग्रेश और भाजपा के लिए नाक का सवाल
  • साफ-सुथरे चुनाव के लिए आयोग ने बनाया जनता को प्रहरी
  • सी विजन एप करें लोड और निर्वाचन आयोग को सीधे करे शिकायत
  • बुराई पर अच्छाई की जीत पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएं- इंडोनेपालन्यूज़
toggle